Jashn-e-Rekhta

By | December 15th, 2017|BLOG|

आस है, आभास है यह भी एक आवाज है इसमे हर वयक्ति का इतिहास है ये भाषा है, लफ्ज़ों की